अस्थमा क्या है? सर्दियो में अस्थमा से कैसे बचे और अस्थमा का घरेलू उपचार

अस्थमा या दमे की समस्या: सर्दी की मौसम में जिन लोगों को अस्थमा की समस्या है उन लोगों के लिए सावधान रहना बहुत ही आवश्यक है। सर्दियों में अस्थमा की समस्या ज्यादा होता है और जैसे सर्दी बढ़ने लगता है, वैसे ही मरीजों की समस्या और परेशानी भी बढ़ने लगता है।

सर्दियों के मौसम में ज्यादातर लोगों में ही खांसी की समस्या होती है, इस मौसम में कोहरा गिरना धूल-मिट्टी की समस्या जो अस्थमा को बढ़ाने में बहुत ही सहाय है।

अस्थमा क्या है? – What is Asthma?

अस्थमा को दमे की बीमारी भी कहा जाता है यह एक कफ दोष है। अस्थमा के मरीजों की स्वास्थ्य लेने वाले नलियाँ थोड़ा सा संकुचित हो जाता है, और उसमे बलगम जमा हो जाता है, जिसके कारण उन्हें सांस लेने में तकलीफ छाती में थोड़ा सा भारीपन, छाती में दर्द और गले से आवाज निकलने की समस्या होती है।

हमारे फेफड़ों में कई सारे वायुमार्ग होते हैं जो ऑक्सीजन को रक्त प्रवाह तक पहुंचाता है, और हम सांस लेकर इन्हीं वायु मार्ग से वायु को हम अपने फेफड़ों तक पहुंचाते हैं। अस्थमा होने पर इन्हीं वायु मार्ग में सूजन आ जाता है और इसकी चारों तरफ की मांसपेशियां भी सूज जाती है। इसे ही अस्थमा कहा जाता है. अस्थमा एक गंभीर समस्या है, जिसमें सांस लेने में बहुत तकलीफ होती है। इसका लक्षण देखते ही आप कुछ सावधानियां और घरेलू इलाज जरूर करें।

>>यह भी पढ़े – उज्जायी प्राणायाम के फायदे और करने का तरीका

अस्थमा के प्रकार – Types of Asthma

अस्थमा के कई प्रकार होते हैं,करने के लिए इसे दो भागों में बांटा जा सकता है. इन्हीं दो भागों में सभी अस्थमा के प्रकार आ जाते हैं। यह है एलर्जिक अस्थमा (Allergic Asthma) और नॉन एलर्जिक अस्थमा (Non Allergic Asthma)।

एलर्जी अस्थमा में जब आप किसी चीज के संपर्क में आते हैं तब होता है, इसमें आपको सिजनल अस्थमा भी हो सकता है. और बाकी अन्य कारणों से होने से यह नॉन एलर्जिक अस्थमा के भीतर आता है।

क्या अस्थमा में इन्फेक्शन होता है?

Asthama में इन्फेक्शन नहीं होता है। कुछ allergen होते है जिस से अस्थमा की समस्या सुरु होता है।

जब भी allergen शरीर में प्रवेश होता है है तो immune system सक्रिय हो जाता है, जिस से की immune system उस allergen को अन्दर नहीं जनि देती और जो सांस लेने की नली है, जिस से फेफड़े तक हवा जाती है, उस नाली को सिकुर देता है और उस में सूजन आ जाता है साथ में इसमें बहुत सारा mucus आ जाता है जिस से रास्ता बंद हो जाता है और सांस लेने में परेशानी होती है।

>>यह भी पढ़े – अनुलोम विलोम के फायदे और नुकसान

अस्थमा के लक्षण – Symptoms of Asthma

अस्थमा के इलाज के बारे में जानने से पहले हम इसके लक्षणों के बारे में जान लेते है। अस्थमा का लक्षण अलग-अलग लोगो में अलग-अलग देखने को मिल सकता है। इसलिए इसके लक्षणों को अच्छी तरह से जान ले।

  • खांसी अस्थमा के एक मुख्य लक्षण है।और ज्यादातर लोगों में सूखी खांसी भी होती है, बहुत कम लोगो में ही कफ निकलता है।
  • सांस लेने में तकलीफ। जैसे साँस को बहार नहीं निकल पा रहे है और घुटन सी महसूस हिना।
  • सांस लेते या सोते समय एक सीटी जैसी आवाज निकालता है।
  • जब अस्थमा बढ़ जाता है या ज्यादा खांसने से छाती में दर्द हो जाता है।
  • आपकी पल्स भी बढ़ सकती है।

अस्थमा से बचने के लिए क्या करे – What to do with Asthma

  • धूल और धुआ के संपर्क में ना आयें। अस्थमा रोगियों के लिए ये बहुत ही खतरनाक हो सकता है। अस्थमा के रोगी तंबाकू का सेवन भी बिलकुल ना करे। इस से मौत भी हो सकता है।
  • ठंड में कोहरे से भी बचें। अपने नाक और मुह को अच्छी तरह धक् ले। जितना हो सके धूप निकलने के बाद ही घर से निकले और ज्यादा रात तक भी बाहर न रहे।
  • अस्थमा के रोगी लकड़ी के आग के पास भी ना जाये। ठंड में बहुत से लोग लकरी का आग जला के ठण्ड से बचते है,लेकिन यह अस्थमा रोगियों के लिए खतरा बन सकता है।
  • ठंड में कुछ खाने की चीजों से बचें, ध्यान दे की किन चीजों को खाने से आपको परेशानी होती है और ठंडी चीजो को ना खाए।
  • जब भी घर का काम करे अपने मुंह और नाक को धक् के करे, अगर आप किचन में काम कर रहे है तो धुए से बचे और अगरआप रूम की सफाई कर रहे हो तो आप धूल से बचे और अपने मुंह और नाक को धक् ले।
  • ज्यादा खुशबूदार चीजों से बचें। परफ्यूम का इस्तेमाल ना करें, ज्यादा गंध वाले फूलों के जगहों में ना जाये।
  • कुछ लोगों को जानवर से एलर्जी होता है, तो आप उनसे दूर रहे। अगर घर में पालतू जानवर है तो आप उनके संपर्क में ज्यादा ना आये, हो सके तो उन्हें घर से दूर रखे।
  • ठंडा पानी बिल्कुल न पिएं, ठण्ड में भी गुनगुने पानी का सेवन करे और नहाने के समय भी गरम पानी से नहाये।

फिर भी डॉक्टर के सलाह से आप अस्थमा के अटैक से बच सकते है।

>>यह भी पढ़े – अरंडी के तेल के फायदे, उपयोग और नुकसान

अस्थमा के रोगी क्या न करें – What not to do with Asthma

  • अस्थमा के रोगी बाहर निकलते समय माता प्रयोग करें।
  • अस्थमा के रोगी धूम्रपान भी ना करें और, जो लोग धूम्रपान कर रहे हैं उन जगहों पर ना जाए।
  • आप लोग सभी प्रकार के व्यायाम नहीं कर सकते, अगर आप लोग हम करना चाहते हैं तो किसी चिकित्सक की सलाह से ही करें।
  • आप लोग प्रोटीन और फैट से बनी चीजों का सेवन ना करें और करना भी चाहे तो बहुत कम मात्रा में करें।
  • आप लोग ठंडी तासीर वाली चीजों का सेवन भी ना करें।
  • आप लोग अंडा और मछली का सेवन भी ना करें।
  • आप लोग कोल्ड ड्रिंक, आइसक्रीम, ठंडा पानी जो फ्रिज का पानी, दही, पनीर और मिठाई का सेवन भी ना करें।
  • आपको सीजनल अस्थमा है तो आप उस सीजन में बाहर ना निकले बहुत सावधानी से सीजनों को पार करें ।
  • ज्यादा तले भुने चीजों को ना खाएं।

अस्थमा के इलाज में क्या खाए – What to eat for Asthma Treatment

  • जितना हो सके रोज अदरक, लहसुन और प्याज का सेवन करे। ये बहुत ही अच्छा होता है।
  • प्याज अस्थमा के लिए बहुत ही अच्छा होता है आप रोज प्याज का सेवन करें।
  • आंवला का सेवन करे, आप आंवले को मधु में भिगो के रख दे और इसका सेवन करे। जब भी इसका सेवन करें इसके साथ थोड़ा अदरक भी मिला ले।
  • शहद बहुत ही अच्छा होता है अस्थमा के लिए, आप इसका सेवन रोज करें।
  • सूखे अंजीर बहुत ही फायदा देता है अस्थमा में। सूखे अंजीर को रात में गर्म पानी में भिगो के रख दे और सुबह उठ कर खली पेट खा ले।
  • सरसों के तेल में लहसुन दे के गरम करे और इससे छाती की मालिश करें। जब भी अस्थमा का समस्या ज्यादा हो तो रोज ही इससे छाती की मालिश कर सकते है।
  • मीठी एक बहुत ही गुणकारी चीज है और ये अस्थमा के लिए भी बहुत ही अच्छा है। 

>>यह भी पढ़े – हाई ब्लड प्रेशर को तुरंत कंट्रोल कैसे करे

अस्थमा का घरेलू उपचार : Home Remedies For Asthma  

हल्दी के फायदे अस्थमा में – Benefits of Haldi in Asthma

हल्दी बहुत फायदा देता है, अगर आप को अगर दूध से कोई समस्या नहीं है तो आप दूध में हल्दी डालकर पिए। या तो आप कच्चा हल्दी का रस निकाल कर भी पी सकते है।आप दूध को गर्म करके उसे ठंडा करे और आप दूध में एक चम्मच हल्दी डालकर पिए। यह अस्थमा में बहुत मदद करता है।    

मेथी के फायदे अस्थमा में – Benefits of Fenugreek in Asthma

आप मेथी का इस्तेमाल अस्थमा में कर सकते हैं, इससे आपको बहुत फायदा मिलता है।  आप मेथी को सरसों के तेल के साथ गर्म करें और उससे छाती और पीठ की मालिश करें इससे आपको बहुत आराम मिलेगा।  

आप और एक काम कर सकते हैं आप देर गिलास पानी ले और इसमें 1 चम्मच मीठी दल कर उस पानी को उबालें जब तक पानी एक कप न हो जाये। फिर इसमें 1 चम्मच शहद और आधा चम्मच अदरक का रस मिलाकर रोज पिए। इस से आप को बहुत फायदा मिलेगा।

अजवाइन के फायदे अस्थमा में – Benefits of Celery in Asthma

जब भी आपको अस्थमा हो जाए आप अजवाइन  के इस्तेमाल से इसे ठीक कर सकते हैं।  आप अजवाइन को पानी में डालकर उबालें और उस पानी का आप अगर भाग लेते हो तो यह आपके अस्थमा के लिए बहुत फायदेमंद है।

>>यह भी पढ़े – उच्च रक्तचाप के उपचार

तुलसी के फायदे अस्थमा में – Benefits of Tulsi in Asthma

हम सभी जानते हैं कि तुलसी के बहुत फायदे हैं, यही तुलसी अस्थमा के लिए भी बहुत अच्छा होता है।  आप तुलसी के पत्ते का रस निकालने और आधा चम्मच ले और इसके साथ शहद का आधा चम्मच मिलाकर रोज सेवन करें इससे आपके अस्थमा में बहुत फायदा मिलता है।  

अस्थमा के लिए स्पेशल चाय – Special tea for Asthma

आप सुबह को एक चाय बनाओ जो दूसरे दिनों के चाय से थोड़ा अलग हो इस चाय में आप चाय पत्ती की जगह तुलसी का पत्ता डाले 4/5, तेजपत्ता डाल दो, लगभग आधे इंच का अदरक डाले काटकर और इसमें एक बड़ी इलायची डालें और इन सब को मिलाकर उबले और आप रोज एक कप इस चाय पीएं।  यह चाय आपके लिए बहुत ही अच्छा है, यह आपके अस्थमा को ठीक करने में बहुत मदद करता है आप इस चाय को जरूर ट्री करें ।

सांस संबंधित कुछ व्यायाम करें- Some breathing exercises

आप अपने डॉक्टर और एक योग ट्रेनर से परामर्श करके ऐसे योग या व्यायाम कर सकते हैं जिससे आपकी फेफड़ों को खुलने में और सांस लेने में आसानी हो, रोजाना सांस की इन व्यायाम को करने से आपकी फेफड़ों में ज्यादा हवा जाने लगेगी और आपको अस्थमा से आराम मिलेगा।

अस्थमा को पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता। लेकिन आप इन अस्थमा का घरेलू इलाज करके और कुछ सावधानियों को अपनाकर इस से बच सकते है। और आप इन अस्थमा का घरेलू इलाज करते है तो आपको आराम मिलेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here