पीसीओडी का घरेलू उपचार – PCOD in Hindi

महिलाएं अपने जीवन में कई सारी बीमारीओं का सामना करती है। ऐसे में पीसीओडी भी एक ऐसी समस्या बन चुकी है जो लगभग 10 में से एक महिला में यह बीमारी देखने को मिल रही है। जिससे महिलाएं कई सारी समस्याओं का सामना कर रही है। आज इस लेख (PCOD in Hindi) में पीसीओडी का घरेलू उपचार क्या है, पीसीओडी सिम्टम्स क्या है (PCOD Problem Symptoms in Hindi) और पीसीओडी की समस्या को हमेशा के लिए कैसे ठीक किया जा सकता है इसके बारे में बताया गया है। 

पीसीओडी एक ऐसी समस्या है जिससे महिलाएं शारीरिक रूप से परेशानी तो चलती ही है इसके साथ यह समस्या मानसिक रूप से भी महिलाओं को तकलीफ देती है। क्योंकि पीसीओडी  से मासिक धर्म में समस्याएं और इसके साथ गर्भवती होने में भी समस्याएं पैदा करती है। और यह बीमारी पहले के मुकाबले बहुत ही ज्यादा और तेजी से बढ़ने लगी है, इसलिए जिन महिलाओं को इस बीमारी के बारे में नहीं पता में महिलाओं में इसके बारे में जागरूकता होनी चाहिए। जिन महिलाओं को यह बीमारी है और इसके साथ  जिनको नहीं है दोनों को ही इस बीमारी के बारे में अच्छी तरह से जान लेना चाहिए ताकि वो इससे दूर रह पाए।

महिलाओं में पीसीओडी क्या होता है – What is PCOD problem in females?

पीसीओडी महिलाओं पाए जाने वाली बीमारी है जो बहुत तेजी से महिलाओं में बढ़ने लगी है। पीसीओडी एक ओवरी की समस्या है। महिलाओं की ओवरी में कई सारे छोटे आकर में गांठ बन जाते है, जिसे सिस्ट्स भी कहा जाता है, यह गांठ तब बनते हैं जब महिलाओं के शरीर में हॉर्मोन्स असंतुलित होते हैं और शरीर में हारमोंस बढ़ने लगते हैं जिसमें मेल हार्मोन (एण्ड्रोजन) अधिक बन जाते हैं। 

PCOD Full Form क्या है?

PCOD का Full Form है – Polycystic Ovarian Disease (पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिजीज)

PCOD का Meaning क्या है?

PCOD का Meaning है, पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिजीज या जिसे पॉलिसिस्टिक ओवरी डिजीज भी कहा जाता है जिस से महिलाओं के अंडाशय या ओवरी में छोटे आकर के सिस्ट्स बनते हैं।

पीसीओडी में क्या क्या प्रॉब्लम होती है?

पीसीओडी में मुख्य तौर पर दो समस्याएं ही देखने को मिलती है जो उन्हें मानसिक तौर पर भी निराश और हताश कर देती है। 

  • मासिक धर्म कम आती है 
  • पीरियड लेट आती है।
  • महिलाएं गर्भवती नहीं बन पाती है।

पीसीओडी समस्या के लक्षण – PCOD Problem Symptoms in Hindi

  • मोटापा आ जाता है। पेट ज्यादा निकल जाता है। 
  • मुंह पर बाल आने लगते हैं।
  • चेहरे पर पिंपल या फुंसियां आने लगती है।
  • बाल झड़ने लगते हैं और पतले हो जाते हैं। 
  • गर्दन काली हो जाती है।
  • पीरियड कम आना या बहुत ज्यादा मात्रा में होना।
  • अनियमित पीरियड।
  • कुछ महिलाओं में कमजोरी आना। 

पीसीओडी का घरेलू उपचार (PCOD Problem Treatment in Hindi)

जो महिलाएं पीसीओडी से परेशान है और वह सोच रही है की पीसीओडी की समस्या को हमेशा के लिए कैसे ठीक करें? तो उन्हें बता दें, कि आप इसे बहुत ही आसानी से ठीक कर सकते हैं बस आपको कुछ नियमों को अपनाना पड़ेगा और अपने जीवन शैली में परिवर्तन लाना पड़ेगा इसके जरिए आप पीसीओडी  की समस्या से मुक्ति पा सकते हैं और अगर इन घरेलू उपचारों से आपका पीसीओडी की  समस्या ठीक ना हो तो ऐसे में आप एक डॉक्टर से जरूर सलाह करें जो आपके लिए बहुत ही जरूरी होता है. 

  1. सबसे पहले अपनी लाइफ स्टाइल को चेंज करना चाहिए। बाहर के खाने को अवॉइड करना चाहिए और एक अच्छा डायट लेना चाहिए। 
  2. अपने वजन को कंट्रोल करना बहुत ही जरूरी है आप ध्यान रखें कि आपका वजन बढ़ने ना पाए। क्योंकि बढ़ता हुआ वजन पीसीओडी का एक मुख्य कारण होता है। 
  3. रात को देर तक ना जगे एक अच्छी और पूरी नींद जरूर ले।
  4. पीसीओडी मे मेथी का सेवन भी फायदेमंद रहता है।
  5. साग और सब्जियों का सेवन ज्यादा करें जिसमें हरी, पीली और लाल सब्जियां शामिल है।
  6. बेकरी के फूड से दूर रहें. चीनी का सेवन या इस से बनी हुई चीजों का सेवन जरूर कम कर दे. अन हेल्थी बाहर के फूड का सेवन बिल्कुल ना करें खासकर पैकेट में आई हुई चीजों का सेवन ना करें।
  7. मीठी चीज जो चीनी से बनी हो और रिफाइंड चीजों को अवॉइड करें। इसकी जगह हरी भरी सब्जियां और फल खाये।
  8. अपने खाने में हर विटामिन्स को शामिल करें। अपने खाने में प्रोटीन जरूर शामिल करें। इसके साथ आप कैल्शियम, आयरन, जिंक, सेलेनियम, विटामिन-डी, विटामिन-बी 12, विटामिन-इ जरूर शामिल करें। 
  9. अलसी, दालचीनी, मीठी, अश्वगंधा, मोरिंगा, जीरा आदि को अपने आहार में शामिल करें। लेकिन आप इन सब को तेल में भून भूनकर बिलकुल ना खाए, पानी में उबालकर, या चाय बनाकर, या अपने सब्जी में दाल के खाये।
  10. आंवला का आंवला का जूस ले जो आपके लिए बहुत ही अक्सा है।
  11. चुकंदर का जूस ले, सौंफ को पानी में उबालकर उसका पानी पिए, आपके लिए बहुत ही फायदेमंद है और आपकी बॉडी को डिटॉक्स करता है।
  12. चाय, कॉफी या ग्रीन टी का सेवन न करें, इसकी जगह अदरक, दालचीनी और तुलसी का पत्ते को उबाल के एक ड्रिंक बनाये और चाय की तरह पाई, जो आपकी बॉडी को डिटॉक्स करने के साथ आपकी इम्युनिटी पर को भी बढ़ाता है।
  13. एक्सरसाइज जरूर करें अगर आप एक्सरसाइज ना कर पा रहे हो तो कम से कम रोज पैदल जरूर चले। 
  14. फिजिकल एक्टिविटी पर ध्यान दें। अगर आप ऐसा काम करती है जिसने आपको दिन भर बैठ कर काम करना पड़ता है तो आप कुछ समय के लिए ही सही कुछ ऐसे फिजिकल एक्टिविटी को ज्वाइन करें जैसे कि आप किसी खेल को या डांस को अपना सकती है। 
  15. समय-समय पर अपने बॉडी को डिटॉक्स जरूर करें। 
  16. अपने सोने की समय को ठीक करें और एक अच्छी नीड जरूर ले। देर रात तक बिलकुल ना जागे।
  17. सुबह को अपने शरीर पर सूरज की रोशनी जरूर ले इससे भी विटामिन की कमी पूरी होती हैं जो आपके लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। 
  18. आप एक्सरसाइज जरूर करें या आप योगासन कर सकते हैं जिसमें आपके लिए बहुत ही फायदेमंद होगा प्राणायाम और सूर्यनमस्कार योगासन।

PCOD में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए?

सबसे पहले जान लेते हैं कि हमें क्या नहीं खाना चाहिए।

  • हमें जितना हो सके पिकेटिंग फूड को अवॉइड करना चाहिए, जो आहार हमें पैकेट में मिलता है  ऐसे आहार को अवॉइड करना चाहिए जिसमें चिप्स, बिस्किट, जो भी रेडीमेड फूड, चॉकलेट इत्यादि।
  • मैदे से बनी हुई आहार जिसमें से केक, तले भुने चीजें। 
  • बाहर का खाना, खराब तेल में पकाया हुआ खाना। 
  • ज्यादा चीनी या चीनी से बनाए हुए चीजों को परहेज करें।
  • ज्यादा सॉल्टी और मसालेदार चीजों का भी परहेज करें 

अब जान लेते हैं कि हमें क्या-क्या खाना चाहिए। 

  • घरेलू आहार, पत्तेदार सब्जियां। साग सब्जियां ज्यादा मात्रा में खाएं।
  • हर तरह की दाल, जो आप खा सकती है या आपको खाना पसंद है।
  • खाने में सलाद, जो कई तरह की सब्जियों को बनाकर खा सकती है। 
  • सफेद पेठा की जूस, चुकंदर का जूस। 

FAQ

Q. क्या पीसीओडी ठीक हो सकता है – Can PCOD be cured?

  • जी हां, आप इसे ठीक कर सकते हैं, कुछ घरेलू चिकित्सा या डॉक्टर की सलाह, सही समय पर इसका इलाज और अपने जीवन शैली में परिवर्तन लाकर आप पीसीओडी को ठीक कर सकते हैं। 

Q. क्या पीसीओडी के कारण प्रेग्नेंट नहीं हो पाते?

  • जी हां क्या पीसीओडी के कारण प्रेगनेंसी में समस्या आती है, या ज्यादातर केस में महिलाएं गर्भधारण नहीं कर पाते।

Q. क्या पीसीओडी के कारण गर्भपात होते हैं।

  • जी हां पीसीओडी के कारण गर्भपात हो सकते हैं ।

Q. क्या पीसीओडी में पेट दर्द होता है?

  • ऐसा जरूरी नहीं है कि आपको पेट दर्द हो, लेकिन अगर पीसीओडी की समस्या है तो पेट दर्द हो सकता है.

प्रेगनेंसी में क्या नही खाना चाहिए – ये 12 चीजें है हानिकारक – (Read Mor)

प्रेगनेंसी में क्या-क्या सब्जियां खाना चाहिए और क्या नहीं..(Read more)

प्रेगनेंसी में क्या क्या खाना चाहिए और क्या नहीं.. (Read more)

PCOD महिलाओं के लिए एक बड़ी समस्या बन चुकी है, क्योंकि इसके बारे में ज्यादातर महिलाएं अज्ञात होती है या फिर महिलाएं इसके बारे में जानती तो है लेकिन उनके जीवन में ऐसी कोई समस्या है, इसके बारे में वह जागरूक नहीं है इसीलिए पीसीओडी (PCOD in Hindi) के बारे में अधिक जानना बहुत ही जरूरी है क्योंकि यह महिलाओं के जीवन में कई सारी समस्याओं का कारण बनता है और इसके साथ यह बहुत तेजी से बढ़ रहा है, महिलाएं इस से पीड़ित हो रही है इसीलिए इसके बारे में जानना बहुत ही जरूरी हो गया है आज इस लेख में हमने इसके बारे में जाना और इसे किस तरह से ठीक किया जा सकता है पीसीओडी का घरेलू उपचार के बारे में भी जाना आशा करते हैं आपको यह लेख जरूर पसंद आया होगा, आप इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें

यह भी पढ़ें- Pista Benefits in Hindi
यह भी पढ़ें- Kiwi Fruit in Hindi
यह भी पढ़ें- अपराजिता के फायदे और नुकसान
यह भी पढ़ें- गुलाब जल के फायदे
यह भी पढ़ें- Kale Leaves के 20 फायदे
यह भी पढ़ें- बालों का झड़ना कैसे रोकें
यह भी पढ़ें- कपालभाति प्राणायाम के 27 फायदे
यह भी पढ़ें- सूर्य नमस्कार के फायदे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here