सरसों के तेल के 21 फायदे, नुकसान और लाभ – Benefits Of Mustard Oil In Hindi

भारत में कई तरह के सरसों के तेल उपलब्ध है। आज हम आपके लिये सरसों के तेल के 21 फायदे ले कर आये है। बच्चों से लेकर बड़े लोगों तक सरसों के तेल के फायदे आपको मिलते है।

सरसों के तेल का उपयोग ज्यादातर खाने में ही किया जाता है। भारत के लगभग हर घर के किचन में वेज या नॉनवेज दोनों प्रकार के खाने के लिये ही सरसों के तेल का इस्तेमाल करते है। ऐसा नहीं है कि सरसों के तेल को सिर्फ खाना बनाने के लिए ही इस्तेमाल किया जाता है ये बहुत ही गुणकारी और लाभदायक है। सरसों के तेल के फायदे जानकर आप हैरान हो जायेंगे।

Table of Contents

सरसों के तेल कि विशेषता – Specialty Of Mustard Oil

इस तेल के उपयोग से कई सारी छोटी बड़ी समस्याओं का समाधान मिलता है। ये हमारे स्वास्थ के लिये, त्वचा के लिए और बालों के लिए भी बहुत ही अच्छा होता है। जब से तेल का उपयोग घरों में किया जाने लगा है, तब से ही सरसों के तेल यूज़ हो रहा है।

आजकल कई तरह के तेल मार्केट में मिलते है, कोई किसी चिज के लिये अच्छा है तो किसी बीमारी के लिये खराब भी होता है। कई तेलों को बार बार कई प्रक्रिया से गुजरने के बाद खाने के लिये उपयोगी बनया जाता है। जिस से इन तेलो को प्राकृतिक तत्व नहीं रहते।

लेकिन शुद्ध सरसों के तेल, सरसों के बीज से निकाला जाता है, इसलिए सरसों के तेल के फायदे अनेक होते है। आज इस लेख में हम सरसों के तेल के फायदे और नुकसान के बारे में जानेंगे।

सरसों का तेल क्या होता है – What Is Mustard Oil

सरसों का एक पौधा होता है, जिस पर पीले रंग के फूल भी निकलते है। इसके बाद इस पौधे में बहुत ही छोटे छोटे बीज निकलते है, ये बीज काले, लाल और पीले रंग के होते है। इसी बीज से सरसों का तेल निकला जाता है।

सरसों का तेल पीसने के लिए कुछ मशीन आते है, इन मशीनों में इसे पीस के इनमें से तेल निकाला जाता है। सरसों के पौधे का साग भी खाया जाता है, जो कई लोगो की पसंदीदा होता है। सरसों के तेल को खाने और लगाने में यूज किया जाता है।

कुछ जगहों पर इस तेल को कड़वा तेल भी कहा जाता है। इसका स्वाद और सुगंध इसे दूसरे तेलों से अलग बनाता है।

PCOD का घरेलू उपचार – Read More..
प्रेगनेंसी में क्या नही खाना चाहिए – ये 12 चीजें है हानिकारक – Read Mor..
प्रेगनेंसी में क्या-क्या सब्जियां खाना चाहिए और क्या नहीं..(Read more)
प्रेगनेंसी में क्या क्या खाना चाहिए और क्या नहीं.. (Read more)

सरसों के तेल की तासीर

इसकी तासीर गरम होती है। गरम तासीर की होने के कारन इसका उपयोग ठंड में, सर्दी-जुकाम में और मालिश करने में भी किया जाता है। शरीर के अंगों में दर्द होने पर भी इसका उपयोग किया जाता है।

>>यह भी पढ़ें – Castor Oil in Hindi

सरसों के तेल के फायदे – Benefits Of Mustard Oil In Hindi

दोस्तों आज आप सरसों के तेल के फायदे जानकर हैरान हो जायेंगे। इस से खाना स्वादिष्ट तो बनता ही है, साथ में इसके बहुत फायदे मिलते है। तो आइये जानते है सरसों के तेल के 21 फायदे क्या क्या है।

सरसों का तेल दर्द में फायदा देता है

अगर कभी आप के शरीर में दर्द हो, तो आप सरसों के तेल के साथ लहसुन दाल के गर्म करे और शरीर की मालिश करें, इस से दर्द कम होता है और बहुत आराम मिलता है। 

जोड़ों का दर्द, गठिया और मांसपेशियों का दर्द को कम करता है

ये  शरीर के रक्त संचार ठीक तरह से करता है, जिस से मांसपेशियों में, जोड़ों में बहुत फायदा मिलता है। आप एक कटोरी में सरसों के तेल और 8 से 9 कलिया लहसुन दाल दे, और अब लहसुन के लाल होने तक गर्म करें। अब इस तेल को थोड़ा सा गर्म रहते ही जोड़ों में पैरों में मालिश करें, इससे जोड़ों का दर्द, बदन दर्द, कम होता है। और गठिया और मांसपेशियों को मजबूत बनता है और दर्द से छुटकारा दिलाता है।

>>यह भी पढ़ें – Chia Seeds side effects in Hindi

भूख बढ़ाने में मदद करता है

इस तेल में खाना पका के खाने से शरीर की पाचन शक्ति बढ़ती है और मजबूत बनती है। जिस से बीमारियां कम होती है और भूख बढ़ाने में मदद करता है।

अस्थमा की रोकथाम करता है

सर्दियों में अस्थमा का प्रॉब्लम ज्यादा होता है। आप आधा चम्मच सरसों के तेल को आधा चम्मच मधु के साथ दिन में दो बार ले, इस से आप को बहुत फायदा मिलता है। और तेल को लहसुन के साथ गर्म करके छाती पर मालिश करे धीरे धीरे, इस से बहुत लाभ मिलेगा।

दांतों के दर्द के लिए सरसों के तेल फायदे

ये तेल दांतों के लिए बहुत ही फायदेमंद है। सरसों के तेल में नमक मिलाकर दांतों की मालिश करने से या रगड़ने से दांतों के दर्द में फायदा मिलता है, साथ में दांत सफेद होते है और मजबूत बनते है।  मसूड़ों में होने वाले सूजन को कम करने के लिये सरसों के तेल में हल्दी और नमक मिलकर मालिश करें, इस से मसूड़ों में होने वाले सूजन कम होते है।

हृदय स्वस्थ रखने के लिए सरसों के तेल फायदे

सरसों के तेल से पकाए गए खाना खाने से कोलेस्ट्रोल बैलेंस में रहता है, और ये खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है जिस से हृदय स्वस्थ रहता है। इसलिए हृदय सम्बंधित कोई भी समस्या नहीं होती। इस से रक्त संचार भी बेहतर होता है।

त्वचा के लिए सरसों के तेल फायदे

रोज नहाने से पहले सरसों के तेल से अपनी त्वचा की मालिश करें, इस से त्वचा की दाग धब्बे भी कम होते है और त्वचा में चमक भी आती है।

सरसों तेल के फायदे बालों के लिए 

बालो का झड़ना, बाल सफेद होना ये सब समस्या लगभग सभी को होने लगी है। आजकल हम सभी ज्यादातर chemicals वाले तेल ही अपने बालों में लगते है जिस से बालों को समस्या कम नहीं होता। आप बाल धोने से पहले सरसों के तेल से बालों की जड़ों पर मालिश करें, इसे हफ्ते में तीन बार करें। इस से बालों की ग्रोथ अच्छी होती हैं, बाल लम्बे होते है और बालो का झड़ना कम होता है, ये बालों को सफेद होने वाले समस्या से भी बचाता है। इसमें मौजूद एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल तत्वा से रूसी को कम करने में मदद करता है।  

एलर्जी से बचाता है

सरसों के तेल में एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण मौजूद है, जिस से ये शरीर को एलर्जी से बचाता है। एलर्जी  में इसे खाना और लगाना दोनों ही फायदा देता है।

बुखार में सरसों के तेल फायदे

जब भी बुखार आए चाहे वो बच्चे का हो या बड़े लोगो में, सरसों के तेल में कलौंजी डाल कर गर्म करें थोड़ा ठंडा होने के बाद हाथ और पैर की तलवे को मालिश करें। अगले दिन तक बुखार कम हो जाते है।

सर्दी जुकाम में सरसों के तेल फायदे

आप एक कटोरी में सरसों के तेल, 5 से 6 कालिया लहसुन के और उसमे अध चम्मच अजवाइन दाल के लहसुन के लाल होने तक गर्म करें, और थोडा सा ठंडा होए दे ज्यादा ठंडा न करे और इस से छाती और पुरे शारीर की मालिश करे. इस से  सर्दी जुकाम कम होता है।

कान के लिये फायदेमंद

बहुत से ऐसे लोग है जो कान बिल्कुल भी साफ नहीं करते जिस कारण कान में दर्द, कान से कम सुनाई देना ओर कान में बहुत सारी गंदगी जमा हो जाता है। आप सरसों के तेल को गर्म करके ठंडा होने दे और पूरी तरह ठंडा होने के बाद दो बूंद कान में दाल दे इस से कान का दर्द ठीक होता है और गंदगी भी बाहर निकल जाता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है

सरसों का तेल हमारे रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है जिस से हम कम बीमार पड़ते है। इसलिए इसे खाने में जरूर ऐड करे।

मांसपेशियों मजबूत बनता है

सरसों के तेल में कपूर मिलाकर पूरे शरीर को मालिश करें, इससे मांसपेशियों मजबूत बनता है और शरीर में स्फूर्ति आती है। सरसों के तेल में बिना कपूर मिलाए बच्चों के शरीर की रोज मालिश करने से उनकी मांसपेशियों बहुत मजबूत बनता है।

कैंसर के लिए सरसों के तेल फायदे

आजकल कैंसर ज्यादातर लोगों में ही पाए जाते है, ऐसे में ये तेल कैंसर को दूर रखने में मदद कर सकता है। एक अध्ययन से यह पता चलता है कि इस तेल में एंटी कैंसर गुण मजूद हैं, सरसों के तेल में ग्लूकोसिनोलेट प्रॉपर्टी होता है, जिसमे एंटी-कार्सिनजेनिक गुण पाया  जाता है जो कैंसर के सेल्स को विकसित होने से रोकता है। इसलिए सरसों का तेल कैंसर को रहने में भी मदद करता हैं। ऐसा नहीं है की इस से कैंसर खत्म हो जाता, ये बस कैंसर जैसी समस्या को रोकने में मदद मिल सकता है। इसे ज्यादा नहीं कम मात्रा में रोज खाने से इस्तमाल करे।

सूजन को कम करे

जहा भी सूजन हो वहां शुद्ध सरसों का तेल बिना गरम किए लगा के छोड़ दे या मालिश करें। ये सूजन को कम करता है और आराम दिलाता है।

चेहरे पर चमक लाता है

जो लोग ये तेल रोज अपने चेहरे पर लगाते है, उनके चेहरे पर नेचुरल चमक आता है। इसमें मौजूद एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण चेहरे में पिंपल आने से रोकता है, सन से प्रोटेक्ट करता है, रंग निखरता है और त्वचा को कोमल बना के रखता है।

फंगल इन्फेक्शन को रोकता है

सिर पर होने वाले फंगल इन्फेक्शन या त्वचा पर होने वाले फंगल इन्फेक्शन पर सरसों के तेल लगाये या धीरे धीरे मालिश करे, इस तेल में मौजूद एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण फंगल इन्फेक्शन को रोकने में मदद करता है।

खुजली कम करता है

कभी कभी त्वचा में खुजली, सूजन या फंगल इन्फेक्शन बन जाते है। इस समय आप सरसों के तेल मालिश उन जगहों में करे, या लगा कर छोड़ दे। इसमें मौजूद एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टी खुजली, सूजन या फंगल इन्फेक्शन दूर करने में मदद करता है।

वजन कम करने में मदद करता है।

आजकल हम सभी ज्यादा रिफाइंड तेल खाते है, जो शरीर के लिए बिलकुल भी फायदेमंद नहीं है। ऐसे तेल खाते है जो हमारे पेट को या हजम को ख़राब करता है। जिस से वजन बढ़ना और मोटापा जैसी समस्या देखने को मिलता है। सरसों के तेल पाचन शक्ति मजबूत बनाती है। ये वजन कम करने में मदद करता है।

दिमाग के लिए सरसों के तेल फायदे

ये तेल दिमाग की कार्यक्षमता को बढ़ाने में बहुत मदद करता है। सरसों के तेल को रोज अपने पकवान में शामिल करे, इसमें मौजूद तत्वा ब्रेन फंक्शन के लिए अच्छा होता है।

>>यह भी पड़े – अपराजिता के फायदे
>>यह भी पड़े – किशमिश खाने के 20 फायदे
>>यह भी पड़े – Kale Leaves Benefits in Hindi
>>यह भी पड़े – काजू खाने के 20 फायदे

दो बूंद सरसों का तेल नाक में डालने के फायदे

  • सरसों के तेल को गर्म करके ठंडा होने के बाद सोने से पहले दो बूंद अपने दोनों नाक में डाल दे, इस से सर्दी जुकाम भी कम होते है और बंद नाक भी खुल जाते है।
  • अगर सिर में दर्द रहे तो सरसों के तेल को गर्म करके ठंडा होने के बाद सोने से पहले दो बूंद अपने दोनों नाक में डाले, आपका सिर दर्द कम हो जायेगा।
  • किसी किसी लोगों में, सोने के बाद नाक से आवाज निकलता है। सोने से पहले दो बूंद दोनों नाक में डाले, इस से आवाज नहीं होगा।
  • सोने से पहले दो बूंद दोनों नाक में डाले, इस से अच्छी नींद आएगी।

सरसों के तेल के लाभ शॉर्ट में – Mustard Oil Benefits In Short

  1. बच्चो को नहाने से पहले इससे रोज मालिश करे, मांसपेशियां और हड्डियां मजबूत बनते है।
  2. सरसों के तेल से बच्चो को मालिश किया जाता है, क्यों की इस से मांसपेशियां मजबूत होती हैं।
  3. इसके मालिश से अनेक लाभ होते है, आप इसे थोड़ा गर्म करें और अपने शरीर पर लगाए। इस से बदन में दर्द, पीठ दर्द में कम होता है, इस से शरीर में गर्माहट पैदा होता है, ये कमजोरी को दूर करके
  4. रोजाना लगाने से त्वचा सम्बंधित समस्या कम होती है। आप नहाने से पहले इसका मालिश करे।
  5. इसमें एंटी बैक्टीरियल, एंटी फंगल और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण मौजूद है। जिस से हमे बहुत लाभ मिलता है। जिस से बैक्टीरियालइन इन्फेक्शन, फंगल इन्फेक्शन से भी बचा जा सकता है। 
  6. सरसों का तेल खाने में उपयोग करें, इससे आपको अनेको लाभ मिलेंगे।
  7. सिर में दर्द होने से आप थोड़ा सा सरसों का तेल गर्म करे और ठंडा होने पर उसमें से दो बूंद अपने नाक में लगाएं इस से आप का सिर दर्द कम हो जाते है।
  8. सरसों के तेल को थोड़ा गर्म करने के बाद, ठंडा होने पर, दो बूंद अपने नाक में डालने से आपकी सर्दी और जुकाम कम होते है, नाक खुल जाता है और अच्छी नींद भी आती है।
  9. इसी तरह जो लोग रात को खर्राटे लेते है, उनके नाक में देने से, इसमें लाभ मिलता है।
  10. सरसों के तेल में थोड़ा कलौंजी डाल कर गर्म करें, जब भी बुखार हो, सर्दी हो तो इस तेल को हाथों और पेड़ो की तलवे पर इस से मालिश करे, बहुत आराम मिलेगा।
  11. छाती में दर्द होने से, पीठ पर दर्द होने से सरसों के तेल में छोटे चार पांच कलियां लहसुन के  कूट कर डाले  गर्म करें और ठंडा होने दे, थोड़ा गर्म रहते ही छाती और पीठ पर लगाए आराम मिलेगा।

सरसों के तेल को खाने का तरीका – How To Eat Mustard Oil In Hindi

आपने अब तक सरसों के तेल को खाने के कितने फायदे हैं ये जाने, दोस्तों किसी भी चीज को सही तरीके से खाना बहुत ही जरूरी है ताकि इसका पूरा फायदा मिल सके। सरसों के तेल को भी सही मात्रा में खाना जरूरी है नहीं तो इस से आपको नुकसान हो सकता है। तो चलिए जानते हैं सरसों के तेल को खाने का तरीका।

किसी चीज में मिलाकर खाएं

सरसों के तेल को आप सलाद में डाल के खा सकते है, या आप इसे चटनी में मिला कर भी खा सकते है।

व्यंजन बनाने में करें

व्यंजन बनाने के समय सरसों के तेल को सब्जी, दाल या किसी व्यंजन को तड़का लगाने में कर सकते है। इस से खाना स्वादिष्ट भी बनेगा और ये स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी है।

सीधा खाएं

आप सरसों के तेल को सीधा भी खा सकते है, आप खाना खाने के बाद इसका आधा या एक चम्मच ले सकते है। लेकिन इसका ज्यादा सेवन न करे।

सरसों के तेल के नुकसान

  • सभी चीजों के फायदे और नुकसान हमें देखने को मिलता है। सरसों के तेल से भी हमें नुकसान हो सकते है। लेकिन आपको ये बता दे की सरसों के तेल से नुकसान हमे तभी देखने को मिलता है, जब इसका अधिक सेवन किया जाये। रोजाना नियमित सेवन से आपको सरसों के तेल से कोई नुकसान नहीं होता है। 
  • सरसों के तेल में मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड, इरुसिक एसिड और ओलेक एसिड मौजूद है, जो स्वास्थ्य के लिये हानिकारक है। इसलिए इसका अधिक सेवन न करे, कम मात्रा में करे, इस से कोई नुकसान नहीं होगा।
  • ठीक इसी तरह आप अगर ज्यादा मात्रा में सेवन करते है, तो ये आपके पेट के लिए भी नुकसानदायक होता है। इसे खली पेट सीधा न ले। आप इसे कच्चा किसी खाने में डाल के (जैसे सलाद में) या इसमें खाना पका के खाए।
  • दस्त होने पर कच्चा सरसों का तेल खाने में न ले।
  • अगर आप में कोई समस्या नहीं है, तो आप इसे नाक या कान में मत डालिए, इस से आपको नुकसान होगा।
  • नाक में इन्फेक्शन है तब भी इसे मत डाले।
  • किसी भी घाव या स्किन की बीमारी में इसे न लगाएं, इससे नुकसान हो सकता है।

सरसों के तेल का उपयोग करने में सावधानियां

  • किसी भी व्यंजन में अधिक मात्रा में इसका उपयोग ना करें।
  • एक तेल में पकाने के बाद तेल रुक जाने से अगर तेल काला हो जाता है तो उसमें दोबारा पकाकर ना खाएं।
  • हर रोज सुबह खाली पेट इसका सेवन ना करें।
  • बाजार में आजकल ज्यादातर मिलावट वाला सरसों का तेल ही उपलब्ध है इसलिए इसका उपयोग करने से पहले थोड़ा जांच कर ले।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

Q. क्या सरसों का तेल दर्द कम करता है?

  • जी हाँ, सरसों का तेल से मालिश करने से दर्द कम करता है।

Q. क्या  चेहरे पर सरसों का तेल लगा सकते हैं?

  • जी हाँ, आप सरसों का तेल चेहरे पर लगा सकते हैं। इस से चेहरे का रंग निखरता है।

Q. क्या सरसों का तेल से वजन कम होता है?

  • जी हाँ, सरसों का तेल से वजन कम होने में मदद मिल सकती है। लेकिन इसे कम मात्रा में सेवन करें और साथ में दुसरे डाइट का भी पालन करें।

आज इस लेख में आपने सरसों के तेल के फायदे जाने। आजकल हम ऐसे तेल खाते है, जो प्रकृति से हमें सीधा नहीं मिलता। लेकिन सरसों का तेल किसी भी प्रक्रिया से नहीं बनता, इसे निचोड़ के निकाला जाता है। इसलिए शुद्ध सरसों के तेल के फायदे बहुत मिलते है। और आज हमने सरसों के तेल के 21 फायदे बताया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here